astrology के अनुसार मंगल (mars) के प्रकोप से बचने के लिए मंगलवार को करें ये उपाय (remedies)


1. जिस पर भी मंगल (mars) भारी है उसे नारियल पानी अवश्य पीना चाहिए। इससे मंगल शांत हो जाएगा और उनके अंदर का क्रोध भी।


2. मंगलवार के दिन हनुमान मंदिर में जा कर बजरंगबली को तेल और सिंदूर मिलकर चढ़ाए और उसी से अपने आप का तिलक भी करें।


3. बूंदी के लड्डू अपने हाथों से बनाएं और उसमें चार लौंग डाल कर बजरंगबली के चरणों में मंगलवार के दिन चढ़ाएं।


4. पान के पत्ते पर कत्था लगाएं और इसे मंगलवार के दिन बजरंगबली को चढ़ाएं।


5. हर दिन हनुमान चालिसा और बजरंगबाण का पाठ करें।


6. सरसों के तेल में नील मिला लें और इसके बाद इसका दीया बजरंगबली को दिखाएं।


7. मंगलवार को व्रत करें और गुड़ और चने का दान जरूर करें।


मंगल (mars) से होने वाले रोग


पित्त रोग, सूखा रोग, भय, दुर्घटना, अग्नि से भय, बिजली से भय, रक्त बहना, उच्च रक्तचाप आदि। मंगल से पीड़ित व्यक्ति के लिए प्रतिदिन ध्यान करना उत्तम होता है। ध्यान रहे कि अशुभ मंगल से धैर्य की कमी होती है, अत: किसी भी स्थिति में धैर्य बनाए रखें।


ज्योतिष (astrologer) के जानकारों की मानें तो जातक की कुंडली (kundali) में मंगल 1, 4, 7, 8 या 12 वें स्थान पर हो तो ये मंगल दोष होता है. ऐसे व्यक्ति को मांगलिक कहा जाता है. मंगल दोष को अनदेखा नहीं किया जा सकता क्योंकि ये वैवाहिक जीवन में समस्याएं पैदा कर सकता है इसलिए विवाह से पहले मंगल दोष के लिए कुंडली (kundli) मिलाना बेहद जरूरी है...आइए अब आपको बताते हैं क्या है मंगल दोष


मंगल दोष


- कुंडली (kundali) में अगर मंगल लग्न,चतुर्थ,सप्तम ,अष्टम या द्वादश भाव में हो तो कुंडली में मंगल दोष होता है.


- इसके होने पर रिश्ते काफी संवेदनशील हो जाते हैं , इसीलिए कुंडली मिलान की सलाह दी जाती है.


- कुंडली में अगर मंगल दोष हो तो विवाह और रिश्तों में परेशानी आती है


- मंगल दोष अगर समस्या दे रहा हो तो हनुमान जी को नियमित चोला चढ़ाएं