Astrology : शुक्र ग्रह Venus जैसे चमकना हो तो धारण करें ओपल Opel




ओपल Opel धारण करने पर व्यक्ति का शुक्र मजबूत होने लगता है। इससे व्यक्ति के व्यक्तित्व में आकर्षण बढ़ता है।

- जीवन में आर्थिक उन्नति बढ़ती है जिससे आर्थिक पक्ष मजबूत बनता है।

- जीवन में समृद्धि बढ़ती है और महत्वाकांक्षाओं की पूर्ती होती है।

-पुरुषों के लिए ओपल Opel धारण करना उनके वैवाहिक जीवन के लिए भी बहुत शुभ देता है। उनके जीवन में मधुरता बढ़ती है और वैवाहिक जीवन स्थिर बना रहता है।

-जिन पुरुषों की कुंडली kundali में शुक्र कमजोर होने से उनका विवाह होने में अड़चने आ रही होती हैं उनके लिए ओपल धारण करना विवाह योग को मजबूत करता है।

-कुंडली kundali में अगर शुक्र की दशा चल रही हो तो ओपल धारण करने से शुक्र की दशा में अच्छे परिणाम मिलने लगते हैं।


कब करना चाहिए धारण

ज्योतिष astrology की उपाय remedy शाखा में कुंडली kundali के किसी भी कमजोर ग्रह को बल देने और मजबूत करने के लिए व्यक्ति को उस ग्रह का रत्न धारण कराया जाता है। ओपल Opel शुक्र का रत्न है जिस पर शुक्र ग्रह का आधिपत्य है और कुंडली में शुक्र कमजोर होने पर ओपल धारण करने की सलाह दी जाती है। अगर कुंडली kundali में शुक्र नीच राशि (कन्या) में बैठा हो, केतु ketu के साथ हो, दु:ख भाव में हो या किसी भी प्रकार कमजोर हो तो ऐसे में व्यक्ति के जीवन में आर्थिक उन्नति नहीं हो पाती। पैसों को लेकर हमेशा समस्याएं बनी रहती हैं। सुख-सुविधाओं की पूर्ति नहीं हो पाती और जीवन में समृद्धि नहीं आ पाती। ऐसे में शुक्र को बल देने के लिए व्यक्ति को ओपल धारण कराया जाता है।


कब और कैसे करें धारण

दिन- शुक्रवार

होरा- शुक्र

पक्ष- शुक्ल

नक्षत्र -भरणी, पूर्व फाल्गुन, पूर्व अषाढ़ा

ओपल रत्न शुक्रवार के दिन या शुक्र की होरा में धारण किया जाता है। ओपल सीधे हाथ की तर्जनी अंगुली में धारण करते है। इस रत्न को धारण करते समय शुक्र देव को याद करते हुए 108 बार मंत्र ‘ॐ द्रां द्रीं द्रौं स: शुक्राय नम:’ या ॐ सम शुक्राय नम: का जाप करना चाहिए, उसके बाद विधिवत संकल्पपूर्वक धूप, दीप मिष्टान्न से पूजा अर्चना करके अंगूठी को पहनना चाहिए।