भगवान विष्णु की पूजा से मिलता है लाभ |



चातुर्मास (chaturmas) में भगवान विष्णु पाताल लोक में विश्राम करते हैं| चातुर्मास में आने वाली एकादशी का व्रत बहुत विशेष माना गया है. इंदिरा एकादशी (indira ekadashi) का व्रत भगवान विष्णु को समर्पित है| इंदिरा का एकादशी का व्रत इसलिए भी विशेष माना जाता है कि क्योंकि ये व्रत चातुर्मास और पितृ पक्ष में आता है| भगवान विष्णु की पूजा करने से जीवन में सुख समृद्धि आती है|


ज्योतिषीय (astrology) के अनुसार इंदिरा एकादशी (indira ekadashi) शुभ मुहूर्त


  • एकादशी तिथि प्रारम्भ: 13 सितम्बर की सुबह 04 बजकर 13 मिनट पर

  • एकादशी तिथि समाप्त: 14 सितम्बर की सुबह 03 बजकर 16 मिनट तक

  • 14 सितम्बर को पारण (व्रत तोड़ने का) समय: दोपहर 12 बजकर 59 मिनट से शाम 03 बजकर 27 मिनट तक

  • पारण तिथि के दिन हरि वासर समाप्त होने का समय: सुबह 08 बजकर 49 मिनट

VEDIC ANUSHTHAN / PUJA
  • Maha Mrityunjay Anushthaan

  • Kaal Sarp Dosh Nivaran Anushthaan

  • Mrit Sanjivani: मृत संजीवनी

  • Santaan Gopal Anushthan

कैसे अपने दिन को बेहतर बनाये - सुनिए भूमिका कलम की आवाज़ में 

© 2020. Managed by DigiHakk

  • Facebook Clean