हरतालिका तीज (Hartalika Teej) व्रत पर करें ये उपाय (remedies), मिलेगा सौ गुना फल

सुहाग की लंबी उम्र, अखंड सौभाग्य और सदा सुहागन रहने की कामना से विवाहित महिलाएं हरतालिका तीज (Hartalika Teej) व्रत करती हैं वहीं अविवाहित युवतियां मनचाहा वर पाने के लिए मां पार्वती और भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए व्रत रखती है। हरतालिता तीज (Hartalika Teej) व्रत ही बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है लेकिन ज्योतिषशास्त्र (jyotish shastra) में इस दिन कुछ विशेष उपाय (remedies) बताए गए हैं जिन्हें करने से कई गुना बढ़कर फल मिलता है। साथ ही साथ हरतालिका तीज (Hartalika Teej) व्रत को लेकर कई सावधानियां भी बताई गई हैं कई बार जानें अनजाने में हमसे छोटी-छोटी गलतियां हो जाती हैं और व्रत का पूरा फल हमें नहीं मिल पाता है।


तो आइए जानते हैं हरतालिका तीज व्रत से जुड़े उपाय (remedies) और सावधानियां


तीज के दिन करें खीर का यह उपाय (remedies)

ज्योतिषशास्त्र (jyotish shastra) के अनुसार हरतालिका तीज के दिन भोलेनाथ और माता पार्वती की पूजा के बाद अपने हाथ से खीर बनाकर माता पार्वती को भोग लगाएं। इसके बाद प्रसाद रूप में वह खीर पति को खिलाएं। दूसरे दिन उपवास खोलने के बाद आप भी वही खीर खाएं। इससे दांपत्य जीवन में प्रेम बढ़ता है और जीवन सुखमय होता है।


पांच बुजुर्ग सुहागिनों को करें इन वस्तुओं का दान

हरतालिका तीज (Hartalika Teej) के दिन देवी पार्वती और शिवजी की पूजा करें। इसके बाद 11 नवविवाहिताओं को सुहाग की पिटारी भेंट करें। इस पिटारी में पूरा 16 श्रृंगार होना चाहिए। साथ ही पांच बुजुर्ग सुहागिनों को साड़ी और बिछिया दें। पति के साथ उनके पैर छुएं। इससे उनका आशीर्वाद प्राप्त होगा जो दांपत्य जीवन को सुखमय बनाता है।’ं’


पति-पत्नी के बीच प्रेम बढ़ानें के लिए करें यह उपाय (remedy)

दांपत्य जीवन में प्रेम की कामना हो तो हरतालिका तीज (Hartalika Teej 2021) के दिन शुभ मुहूर्त में पति से अपनी मांग भरवाएं। इसके बाद बिछिया-पायल भी उनके हाथ से पहनें। ऐसा करने से पति-पत्नी के बीच प्यार बढ़ता है। इसके अलावा शाम में गणेश मंदिर में मालपुए अर्पित करें। ऐसा करने से भी पति-पत्नी के बीच अथाह प्रेम बढ़ता है।


मनचाहा पति चाहिए हो तो करें यह उपाय (remedy)

कुंवारी कन्याएं यदि मन में मनचाहे वर की कामना लिए हों तो वे हरतालिका तीज (Hartalika Teej 2021) के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और फिर शिव-पार्वती के मंदिर जाएं। मंदिर में शिव-पार्वती को लाल गुलाब चढ़ाएं। साथ ही मंदिर में ही भगवान शिव और नंदी को शहद चढ़ाएं। इसके बाद माता पार्वती से मनचाहे वर की कामना पूर्ति की प्रार्थना करें। यदि व्रत कर रहे हैं तो हरतालिका तीज में जब पूजा करें तब माता पार्वती को चुनरी चढ़ाकर उन्हें अपने हाथों से नथ पहनाएं। ऐसा करने से देवी पार्वती की कृपा होती है और मनचाही मुराद पूरी होती है।

इन बातों का व्रत रखने वाली महिलाएं रखें विशेष ध्यान

इस दिन महिलाओं को क्रोध नहीं रखना चाहिए। क्रोध करने से मन की पवित्रता का ह्रास हो जाता है। इसीलिए गुस्से को शांत करने के लिए महिलाएं अपने हाथों पर मेहंदी लगाती हैं।


-व्रत के दिन पूरी रात जागरण करके पूजा करनी चाहिए। हरतालिका तीज (Hartalika Teej 2021) की कथा के अनुसार मान्यता है कि यदि व्रती रात को सो जाती हैं, तो अगले जन्म में अजगर के रूप में जन्म होता है।


-इस दिन व्रती गलती से खा लें या पीलें तो अगले जन्म में वानर के रूप में जन्म लेती हैं और यदि गलती से पानी पी लें, तो अगले जन्म मछली के रूप में जन्म मिलता है। इसी तरह इस व्रत को रखने वाली महिलाएं यदि व्रत के दौरान दूध पी लेती हैं, तो उन्हें अगले जन्म में सर्प योनि में जन्म मिलता है।


शुरू करने के बाद जीवन में कभी नहीं छोड़ सकते हैं ये व्रत

हरतालिका व्रत (Hartalika Teej 2021) में विधि विधान और नियमों का पालन करना अनिवार्य है। जो युवतियां या महिलाएं हरतालिका व्रत शुरू करने का सोच रही हैं तो इस बात को सबसे पहले ध्यान दें कि एक बार इस व्रत को शुरू किया तो जीवनपर्यंत रखना अनिवार्य है। केवल एक स्थिति ही में इस व्रत को छोड़ा जा सकता है, जब व्रत रखने वाले गंभीर रूप से बीमार पड़ जाएं, लेकिन ऐसी स्थिति में व्रत रखने वाली महिला के पति या किसी दूसरी महिला को ये व्रत रखना होगा।