कलावा (Kalawa) - वैज्ञानिक लाभ और पौराणिक विश्वास



सभी धर्मों के अपने अलग-अलग रीति-रिवाज और रीति-रिवाज देवता हैं। जो कोई धर्मी मार्ग से चलता है, उन्हें अनुसरण करने का लाभ मिलता है। ये रीति-रिवाज न केवल धार्मिक मान्यताएं हैं बल्कि इनका वैज्ञानिक लाभ (scientific benefit) से भी संबंध है। वहाँ असंख्य पूर्वी और प्राचीन परंपराएँ हैं, जो दुनिया के विभिन्न हिस्सों में लोगों पर शोध करती हैं। हिंदू धर्म में, धार्मिक समारोहों में कलाई पर कलावा या पवित्र लाल धागा (red thread) बांधने का रिवाज है। आज हम आपको उन लाभों के बारे में बताएंगे जो आपके जीवन में ला सकते हैं।


विज्ञान (Science) के अनुसार लाभ

कई महत्वपूर्ण नसें सीधे दिल से जुड़ती हैं। पारंपरिक मान्यताओं के अनुसार, 4 चौथी उंगली के माध्यम से नसें हृदय से जुड़ती हैं। इस प्रकार, एक कलावा या लाल धागा बांधने से आपको इन नसों को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। यह त्रिदोष को दूर करने में भी मदद कर सकता है। इसके अलावा, कलाई पर मौली या कलावा बांधने से रक्तचाप संबंधी समस्याओं, मधुमेह, हृदय रोग, और पक्षाघात जैसी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से राहत मिल सकती है।


कलावा (Kalawa) पहनने के फायदे

  • कलावा पहनने का धार्मिक महत्व के साथ-साथ वैज्ञानिक महत्व भी है। वहीं, धार्मिक अवसरों पर इसे पहनने की परंपरा प्राचीन काल से चली आ रही है।

  • शुभ कार्यों में मौली या कलावा या रक्षा सूत्र पहनना ईश्वर का आशीर्वाद प्रदान करता है। यह नकारात्मक ऊर्जा को दूर करता है और आपके दुश्मन को हरा देता है। साथ ही, यह आपके दुश्मनों को आपसे दूर रखता है।

  • यह कलावा या रक्षा सूत्र कच्चे धागे से बना होता है जो लाल के अलावा पीले या हरे रंग में भी पाया जाता है लेकिन लाल रंग में इसे पहनना अन्य रंगों की तुलना में अधिक शुभ माना जाता है।


ध्यान रखने योग्य बातें

  • कलावा बांधते समय कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है।

  • पुरुषों और अविवाहित लड़कियों दोनों को अपने दाहिने हाथ पर कलावा बांधना चाहिए।

  • दूसरी ओर, विवाहित महिलाओं को अपने दाहिने हाथ पर कलावा पहनना चाहिए।

  • कलावा, वाहन, कीलर, वाल्ट आदि पर कलावा बांधने से अत्यंत शुभ फल प्राप्त हो सकते हैं।

© 2023. Managed by DigiHakk