Kumbh Rashifal : कुम्भ राशिफल


कुम्भ राशिफल (today)

जीवन में प्रकाश की और जा रहे हो, आज का कार्ड  बता रहा है की रूढ़िवादी के परे आप अपने रास्ते खुद बनायें, अस्तित्व आपके साथ है| 

लकी कलर - गोल्डन, लकी नंबर – 10

_________________________________________________________________________________________


कुम्भ राशिफल (2020 year)

कुम्भ राशिफल 2020 सूर्य या चन्द्र राशि पर आधारित न होकर लग्न पर आधारित है. वर्ष 2020 का राशिफल कुम्भ लग्न के जातकों के स्वास्थ्य , व्यापार , भाग्य और वैवाहिक जीवन से सम्बंधित है.  राशिफल  2020 बहुत ही सामान्य आधार पर है अतः किसी विशेष परिस्थिति में अपनी कुंडली की जाँच कराकर ही किसी निष्कर्ष पर पहुंचे . अच्छे या बुरे परिणाम आपकी वर्तमान दशा- अंतर दशा पर निर्भर करते हैं.

विशेष :

  • इस वर्ष ‘वृहस्पति’ धनु राशि में हैं और नवम्बर महीने में के अन्तिम सप्ताह तक धनु राशि में ही बने रहेंगे | इस वर्ष के मध्य भाग 30 मार्च से जून तक मकर राशि में वक्री और मार्गी होंगे | ‘वृहस्पति’ का सबसे ज्यादा प्रभाव धनु राशि पर होगा |

  • ‘शनि’ 24 जनवरी को मकर राशि में प्रवेश करेंगे और पूरे वर्ष पर्यन्त मकर राशि में रहेंगे |

  • ‘राहू’ और ‘केतू’ सितम्बर महीने तक क्रमशः मिथुन राशि और धनु राशि में रहेंगे और सितम्बर के बाद वृषभ और वृश्चिक राशि में प्रवेश करेंगे, और पूरे वर्ष पर्यन्त रहेंगे |

  • ‘मंगल’ इस पूरे  वर्ष पर्यन्त क्रमशः धनु , मकर, कुम्भ, मीन और मेष राशि में रहने वाले हैं |

  • इस वर्ष ‘शनि ढ़ैया’ जनवरी में वृषभ और कन्या राशि के लिये समाप्त होगी , परन्तु तुला और मिथुन राशि के लिये शनि ढ़ैया प्रारम्भ होगी | ‘शनि साढ़ेसाती’ से इस वर्ष वृश्चिक राशि पूरी तरह से मुक्त रहेगी | धनु  राशि के लिये ‘शनि साढ़ेसाती’ का अन्तिम वर्ष रहेगा | मकर राशि के लिये मध्य वर्ष रहेगा | और कुम्भ राशि के लिये ‘शनि साढ़ेसाती’ प्रारम्भ होगी | 


कॅरियर और फायनेंस की दृष्टि से इस वर्ष के प्रारम्भ मे परिश्रम का उचित परिणाम मिलेगा | आप लाभान्वित होंगे | आपके कार्यों की सराहना होगी | आप उन्नति करेंगे | धन की अच्छी बचत होगी | मान-प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी | आपकी भावना विचलित नहीं होगी | इस वर्ष आप नया कार्य-व्यापार प्रारम्भ कर सकते हैं | इसमें आपको खूब लाभ मिलेगा | सुदूर के कार्यों से आपको लाभ मिलेगा | स्थान परिवर्तन से भी लाभ का योग बना हुआ है |

भाग्य भी आपका साथ देगा | भाग्य के बल पर किया गया कार्य आपको अच्छी सफलता देगा | इस वर्ष बहुत से लोग किसी नई जगह जा कर बस सकते हैं | इस वर्ष आप धन बचत नहीं कर पायेंगे | पुराना कर्ज से आपको मुक्ति मिलेगी | किसी को कर्ज देने में आपका धन खर्च होगा | यात्राओं में आपका धन खर्च हो सकता है |

प्रेम-सम्बन्धों तथा वैवाहिक जीवन की दृष्टि से यह वर्ष आपके प्रतिकूल है | रिश्तों को लेकर तनावपूर्ण स्थिति रहेगी | वाद-विवाद बढ़ेगा | रिश्तों के प्रति सही निर्णय नहीं कर पायेंगे | आपकी बुद्धि भ्रमित होगी | आपके अन्दर संदेहात्मक प्रवृत्ति बढ़ेगी | छोटी-छोटी बातों को लेकर आप अपने जीवन साथी से तर्क-कुतर्क करेंगे, जिसका आपके रिश्तों पर बुरा प्रभाव पड़ेगा |

जो लोग विवाह के योग्य हैं उनके विवाह की बात बनेगी | परन्तु रिश्ते उतने अच्छे नहीं रहेंगी | विपरीत लिंगी के प्रति आकर्षण रहेगा | बहुत से लोगों के नये सम्बन्ध जुड़ सकते हैं |

शिक्षा की दृष्टि से भी यह वर्ष ठीक नहीं है | पढ़ाई में भ्रम की स्थिति उत्पन्न होगी | नींद ठीक से नहीं आएगी | शिक्षा में रुकावट का योग बना हुआ है | कई लोगों की पढ़ाई बीच में ही छूट सकती है | जो लोग खोजबीन अथवा शोध के क्षेत्र से जुड़े हैं , उन्हें सफलता मिलेगी |

जो लोग नया कोर्स करनेवाले हैं या नया दाखिला लेने वाले हैं, उनके लिए भ्रम की स्थिति उत्पन्न होगी | क्रोध आप पर हावी रहेगा | इस वर्ष का तीन चौथाई हिस्सा शिक्षा के पक्ष में नहीं है |

स्वास्थ के मामले में यह वर्ष आपके अनुकूल नहीं रहने वाला है | मानसिक रूप से आप अनिंद्रा के शिकार रहेंगे | आप हमेशा तनावग्रस्त रहेंगे | किसी प्रकार का अंजाना भय आपको परेशान करेगा | आलस्यता बढ़ी रहेगी | संतान की दृष्टि से यह वर्ष बिल्कुल ठीक नहीं है | संतान से तनावग्रस्त रहेंगे | आपकी संतान गलत राह पर जा सकती है | गर्भवती महिलाओं को संतान की उत्पत्ति में समस्या उत्पन्न होने की संभावना है |

आपकी महत्वाकांक्षाएँ बढ़ी रहेंगी जो कही न कहीं अशंतुष्टि का कारण बनेंगी | यात्रा सुखद रहेगी | वाहन इत्यादि खरीदने के लिये यह वर्ष आपके अनुकूल है |

सावधानी –

  • आप अपने मानसिकता को साकारात्मक बनायें |

  • संतान के साथ अपने विचारों को मिलाकर चलें |

  • अत्यधिक विश्लेषण से बचें |

  • आपनी महत्वाकांक्षाओं पर नियंत्रण रखें |

  • गर्भवती महिलाओं के सेहत का विशेष ख़याल रखें |

  • अपने मन से अनजाने भय को निकाल दें |

  • आलस्य का त्याग करें |

  • अपने सेहत और खान-पान का विशेष ध्यान दें |

  • पानी अधिक पीयें, हरी चीजों का सेवन अत्यधिक करें |

  • मन में शुभाता शिक्षा में सफलता के लिए “गणेशजी” की नित्य पूजा करें |

VEDIC ANUSHTHAN / PUJA
  • Maha Mrityunjay Anushthaan

  • Kaal Sarp Dosh Nivaran Anushthaan

  • Mrit Sanjivani: मृत संजीवनी

  • Santaan Gopal Anushthan

कैसे अपने दिन को बेहतर बनाये - सुनिए भूमिका कलम की आवाज़ में 

© 2020. Managed by DigiHakk

  • Facebook Clean