अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) पर विशेष योग, इन वस्तुओं के दान से मिलेगा अक्षय फल



अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) यानी वह त्योहार जो हमें हमारे द्वारा किए गए सत्कर्मों का अक्षय फल प्रदान करता है। इसलिए इस दिन हमें परमार्थ (welfare) से जुड़े और जन मानस की भलाई या कल्याण के लिए काम करना चाहिए, जरूरतमंदों के दान (donation) देना चाहिए जो कि हमें अक्षय पुण्य प्रदान करते हैं और ऐसे पुण्य से हमारा जीवन सुख और शांति से व्यतीत होता है। आज हम आपको बता रहे हैं कि अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) पर किन वस्तुओं का दान करना सबसे शुभ माना गया है।


जरूरतमंदों को अन्न का दान

शास्त्रों पुराणों (shastra-puranas) के साथ-साथ नैतिकता के आधार पर भी अन्नदान को सर्वोपरि बताया गया है क्योंकि किसी भूखे को खाना खिलाने से बढ़कर कुछ भी नहीं है। अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya)के दिन हमें जरूरतमंद लोगों को अन्न का दान जरूर करना चाहिए। ऐसा करने से प्रभु का आशीर्वाद प्राप्त होता है उससे जीवन खुशियों और समृद्धि से भर जाता है। शास्त्रों (shastro) में ऐसा बताया गया है कि अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) पर अन्न का दान करने से नवग्रह शांत होते हैं और मजबूत होते हैं। अन्नदान यह जन्म ही नहीं बल्कि परलोक में आपकी स्थिति को भी सुधार देता है।


वस्त्र दान होता है शुभफलदायी

अक्षय तृतीया के दिन वस्त्रों (cloths) का दान करना बेहद शुभफलदायी माना गया है। इस बार अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya 2021) बेहद खास शुभ योग में होने और शुक्रवार के दिन होने से वस्त्र दान का महत्व और भी बढ़ जाता है। शुक्रवार को अक्षय तृतीया होने की वजह से आपको सफेद और चमकीले वस्त्रों का दान करना चाहिए। मान्यता है कि इस दिन जरूरतमंदों को वस्त्रदान करने से आपका शुक्र ग्रह मजबूत होता है और आपके घर में सुख समृद्धि आती है। यह दिन मां लक्ष्मी को समर्पित होने की वजह से आपको घर की महिलाओं को भी इस दिन उपहार देकर प्रसन्न करना चाहिए। आपके घर में साल भर खुशहाली बनी रहेगी।


जलपात्र का दान

अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya 2021) के दिन जल से भरे पात्र का दान करना परम पुण्यदायी माना गया है। इसके लिए आप मटका या फिर कलश का दान कर सकते हैं। मगर ध्यान रखें कि इसको खाली नहीं दान करना चाहिए। इसमें जल भरकर और कुछ मात्रा में चीनी डालकर दान करें। इसके अलावा इस दिन पशुओं को पानी पिलाना भी बहुत पुण्य का कार्य माना गया है। मान्यता है कि अक्षय तृतीया के दिन जल से भरे पात्र का दान करने से आपकी कुंडली (kundali) में चंद्रमा की स्थिति मजबूत होती है और मृत्यु के बाद परलोक में भी आपको प्यासा नहीं रहना पड़ता है और आपके पास किसी चीज की कमी नहीं होती।


किताबों का दान

अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya 2021) के दिन किताबों या फिर पढ़ाई-लिखाई से जुड़ी वस्तुओं का दान करना भी हितकारी माना गया है। मान्यता है कि इस दिन धार्मिक विषयों में रुचि रखने वाले लोगों को पंचांग का दान करना सबसे शुभ माना जाता है। इसके साथ ऐसे लोगों को धार्मिक पुस्तकें उपहार के रूप में दी जा सकती हैं। इस बात का ध्यान रखें कि धार्मिक पुस्तकें उसी व्यक्ति को देनी चाहिए, जिसकी इसमें रुचि हो। इस दिन आप उन बच्चों को किताबें और कॉपी दान कर सकते हैं जो धन कमी की वजह से पढ़ नहीं पाते हैं। ऐसा करने से आपकी कुंडली (kundali) में बुध की स्थिति मजबूत होती है।


सुहागन महिलाओं को जरूर दान करें ये वस्तुएं

अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya 2021) के दिन सिंदूर का दान करना उत्तम माना जाता है। इस दिन आप सिंदूर के साथ सुहागिन महिलाओं को सुहाग की अन्य सामग्री भी दान कर सकते हैं। ऐसा करने से आपके दांपत्य जीवन में शुक्र की कृपा प्राप्त होती है और घर में खुशहाली आती है। इस दिन आपको शाम की पूजा में मां लक्ष्मी को भी सिंदूर अर्पित करना चाहिए।


चंदन की लकड़ी का दान

अक्षय तृतीया के दिन चंदन की लकड़ियों दान जरूर करना चाहिए क्योंकि हिंदू धर्म में चंदन का विशेष महत्व बताया गया है। मान्यता है कि ऐसा करने से आपकी आकस्मिक घटनाओं से रक्षा होती है और आपको अच्छी सेहत प्राप्त होती है। वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए अच्छी सेहत प्राप्त करने के लिए आप यह आसान उपाय (remedy) कर सकते हैं। इसके साथ ही ज्योतिष (astrology) में ऐसा माना जाता है कि लाल और सफेद चंदन का दान राहु और केतु के अशुभ प्रभावों को दूर करता है।


पितरों के लिए दान

ऐसी मान्यता है कि अक्षय तृतीय के दिन पितरों के नाम से किया गया दान सबसे पुण्यदायी माना जाता है। इस दिन आप अपने पूर्वजों के निमित्त उनकी पसंदीदा खाने की वस्तुएं या फिर अन्य दैनिक उपयोग की चीजों का दान कर सकते हैं। पितरों का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए यह दिन सबसे शुभ माना जाता है।