हनुमान जंयती (Hanuman jayanti) पर करें पाठ, मिलेगी मन की शांति, शत्रु भय होगा दूर

Hanuman jayanti 2021 : भगवान हनुमान जी के पराक्रम और बुद्धिमता (purana and shastra) एवम साहस को लेक शास्त्रों और पुराणों में कई विशेष स्तुतियां शास्त्रों लिखी गई हैं, जिनके बालकाल और विराट रूप का वर्णन होता है। इन स्तुतियों का पाठ करने और श्री हनुमान जी को सुनाने से भक्तों को कष्ट, परेशानियों से मुक्ति मिलती है। हनुमान जंयती (Hanuman jayanti) के अवसर पर इन पाठों का विशेष महत्व होता है। आज हम आपको बताने जा रहे है भगवान की अलग-अलग स्तुतियां और उनसे होने वाले विशेष लाभ के बारे में तो आईए जानते हैं...



Hanuman jayanti : बजरंग बाण पाठ दिलाएगा शत्रु भय से मुक्ति

व्यक्ति को शत्रुओं के कुचक्र से बचाने में सहायक होता है बजरंग बाण। यदि भक्त इसका पाठ सच्चे मन से करता है तो उसके शत्रुओं का विनाश से हो जाता है। लेकिन भक्तों को एक जगह बैठकर ही इसका पाठ अनुष्ठानपूर्वक 21 दिनों तक करना होता है साथ ही आपको संकल्प लेना चाहिए हमेशा सच्चाई के मार्ग पर चलने का। पवित्र लोगों का ही हनुमान जी साथ देते हैं। यह उपाए (remedy) करने से 21 दिनों के बाद आपको मनचाहा फल मिल जाएगा।


सुंदर कांड से दूर होगा शनि दोष

जिस व्यक्ति पर हनुमान जी अपनी कृपा कर देते हैं शनि और यमराज उसका कुछ भी बुरा नहीं कर सकते। अगर आप पर शनि ग्रह का प्रभाव है तो आप हनुमान मंदिर हर मंगलवार के दिन जाएं साथ ही शराब व मांस के सेवन से दूर रहें। हनुमान चालीसा (Hanuman chalisa) का पाठ या सुंदरकांड का पाठ शनिवार के दिन करेंगे तो शनि भगवान की कृपा आप पर बरसेगी।


Hanuman jayanti remedy : बीमारियों से दूर करेगा हनुमान बाहुक

अगर आप बीमारियों से ग्रस्ति हैं तो हनुमान जी की मूर्ति के सामने जल का एक पात्र रखकर 26 या 21 दिनों तक हनुमान बाहुक का पाठ करें। उस जल को हर रोज ग्रहण कर लें और दूसरे दिन जल रख दें। शरीर की समस्त पीड़ाओं को हनुमान जी दूर करेंगे।


हनुमान मंत्र बहुत शक्तिशाली होता है

अगर आपको अंधेरे या भूत-प्रेत का भय हो तो आप ‘‘ॐ हं हनुमंते नम:’’ नित्य का जाप 108 बार सुबह शाम कर लें। कुछ ही दिनों में आपका यह भय दूर हो जाएगा।


हनुमान मंदिर के दर्शन करें मंगलवार के दिन

हनुमना मंदिर में हर मंगलवार और शनिवार के दिन जाएं और गुड़, चना चढ़ाएं। 21 दिनों तक ऐसा करें और हनुमानजी को चोला 21 दिन पूरे करने के बाद चढ़ा दें।